त्रिकोणासन प्राणायाम :- करने का तरीका और इसके फायदे

त्रिकोणासन प्राणायाम :- करने का तरीका और इसके फायदे


नमस्कार दोस्तों

दोस्तों आज हम बात करने वाले है त्रिकोणासन यह दो शब्दो से मिलकर बना है त्रिकोण (त्रिकोण का अर्थ है त्रिभुज ) +
आसन , इस आसान में शरीर को इस आकर्ति में ढालना पड़ता है जैसे कोई त्रिभुज हो। इसी लिए इस आसन का नाम त्रिकोणासन रखा है।  त्रिकोणासन कमर का दर्द दूर करने के लिए लाभदायक
होता है। एवं शरीर का मोटापा एवं चर्बी कम करने में लाभदायक होता है।
image source;google

त्रिकोणासन करने की विधि :-


1.  त्रिकोणासन करने के लिए पहले अपने पैरो को खोल कर सीधा खड़ा हो जाए।

2.  अपनी समता एवं लंबाई के अनुसार पैरों को 2 या 3 फिट तक खोल ले। ध्यान रहे रीढ़ की हड्डी को सीधा रखे।

3.  एक गहरी श्वास ले और अब अपनी भुजाओ को अपने पैरो के साथ - साथ हथेली को जमीन पर टच करे।

4.  और दूसरा हाथ ऊपर की और हवा में ले जाए।

5.  अब धिरे - धिरे श्वास को छोड़ते हुए आप ने शरीर को बाई और मोड़े और अपने बाई हाथ को उँगली को जमीन से टच करे। 

6.  घुटने नहीं मोड़ें और और दूसरे हाथ को कान से नहीं हटने दें। कुछ समय इसी मुद्रा में रहे।

7.  इसे मुद्रा को आप दोबारा -दोबारा दोहरा सकते है

8.  इस प्राणायाम को आप 5 से 10 बार कर सकते है।
image source;google

त्रिकोणासन करने के फायदे :-


1. त्रिकोणासन शरीर की चर्बी घटाने एवं मोटापा कम में लाभदायक है।

2.  त्रिकोणासन पीठ दर्द से राहत दिलाने में सहायक होता है।

3.  त्रिकोणासन लंबाई बढ़ाने में मदद करता है।

4.  मांसपेशियों को मजबूत रखने में त्रिकोणासन अधिक उपयोगी है।

5.  शरीर को ऊर्जावान बनाने में बनाने में लाभदायक है।

6.  त्वचा पर बार-बार दाने एवं मुंहासे निकलने की समस्या दूर हो जाती है

7.  त्रिकोणासन मधुमेह  के लिए काफी हद तब सहायक होता है।

8.  त्रिकोणासन जाँघ के फैट को कम कर पैरो को सुन्दर बनाता है।

त्रिकोणासन करते समय सावधानियाँ :-


1.  कमर दर्द होने पर यह आसन नहीं करना चाहिए।

2.  माइग्रेन से पीड़ित व्यक्तियों को भी इस आसन को नहीं करना चाहिए।

3.  स्लिप डिस्क वाले को इस आसन के अभ्यास से बचना चाहिए।

4.  अगर किसी व्यक्ति को डायरिया, उच्च रक्तचाप की समस्या हो वह इस योग को न करे।

5.  यदि आपको हृदय से संबंधित कोई भी समस्या हो तो त्रिकोणासन से परहेज रखे।

6.  श्वास की बीमारी से पीड़त रोगी इस योग को न करे।

Comments