गरुड़ासन (Garudasana) करने का तरीका और इसके फ़ायदे

गरुड़ासन (Garudasana)


नमस्कार दोस्तों
दोस्तों आज हम बात करने वाले है गरुड़ासन आसन की जो बहुत ही महत्वपूर्ण आसन है। अंग्रेजी में इसे ईगल पोज़ (Eagle Pose) के नाम से भी जाना जाता हैं। यह आसन शरीर में संतुलन बनाने के लिए बहुत ही उपयोगी है। यह आसन करने से  कमर, जांघ, पीठ और कंधे के ऊपरी हिस्से में खिचाव महसूस होता है। अगर आप इस आसन को पहली बार कर रहे है तो आपको थोड़ा मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन लगातार अभ्यास करने पर इस आसन को आसानी से किया जा सकता है। आइए अब हम जानते है इस आसन को करने का तरीका और इसके लाभ :-
image source;google



गरुड़ासन करने का तरीका :-
1. गरुड़ासन करने के लिए सबसे पहले एक साफ़ सुथरी जगह का चयन करें और अपना योगा मेट बिछा ले।
2. अब उस मेट पर ताड़ासन की स्थिति में खड़े हो जाए।
3. अब अपने बाएं पैर को उठायें और दाएं पैर की ओर ले आयें और दाएं पैर की जांघ पर जांघ रखते हुये बाएं पैर की उँगलियों फर्श पर रखें।
4. अब अपने हाथो को सीधा रखें और कोहनियों को मोड़कर सीधा 90 % का कोण बनाए।
5. अपने बाएं हाथ के चारों ओर अपना दाहिना हाथ लपेटें। और दोनों हाथों की हथेलियाँ आपस में मिलाए।
6. अब आप अपनी कमर को थोड़ा सा झुकाए और कुहले को निचे की तरफ खिसकाए।
7. कुछ समय  के लिए आप इस मुद्रा में रहने तथा गहरी और धीमी साँस लें और ध्यान को केन्द्रित करने का प्रयास करें।
8. इसी प्रकार अब इसका उल्टा दूसरे पैर से करें।

गरुड़ासन करने के फायदे :-
1. कमर, जांघ, कंधे और पीठ के ऊपरी हिस्से में खिंचाव लाता हैI
2. मांसपेशियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।
3. संतुलन बनाने की क्षमता में वृद्धि होती हैं।
4. घुटनों के दर्द को ठीक करने में मदद करता हैं।
5. पीठ के दर्द को जड़ से खत्म करता है। 



गरुड़ासन करते समय सावधानियाँ :-
1. गर्भवती महिलाओं को इस आसन से परहेज रखना चाहिए।
2. घुटने की चोट से पीड़ित व्यक्तिओं को यह आसन नहीं करना चाहिए।
3. कोहनी के दर्द में यही आसन न करे।

Comments