3 ऐसे महत्वपूर्ण सूर्य नमस्कार पोज़ जो आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदे मंद है ( 3 poses of Surya namaskar beneficial for health)

3 ऐसे महत्वपूर्ण सूर्य नमस्कार पोज़ जो आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदे मंद है 

image source : google


नमस्कार दोस्तों 

आज हम आपको बताएंगे की सूर्य नमस्कार के और कौन कौन  से तरिके है। सूर्य नमस्कार बहुत ही लाभदायक होता है। ऐसे लोग अलग अलग पोज़ में करते है। बहुत सारे सूर्य नमस्कार के पोज़ है। तो चलिए दोस्तों जानते है की और कौन  कौन  से पोज़ है सूर्य नमस्कार के। 

सुबह सूर्य नमस्कार क्यों करें?

यह सूर्योदय के दौरान सूर्य नमस्कार को निष्पादित करने के लिए बहुत ही अच्छा होता है और वैसे देखे तो ये एक प्रकार की  विज्ञान है। प्राचीन भारतीय ऋषियों और संतों के अनुसार, देव या दिव्य आवेग हैं जो मानव शरीर के विभिन्न हिस्सों पर शासन करते हैं।


सूर्य नमस्कार आपको यह जानने में मदद कर सकता है कि आपके शरीर के तंत्र के हिस्से के रूप में सूर्य को कैसे आंतरिक किया जाए। बारह मुद्राओं के साथ सूर्य नमस्कार  बारह सूरज चक्रों को आपके भौतिक चक्रों के साथ तालमेल बनाने में मदद कर सकता है।

5  सूर्य नमस्कार स्टेप्स

अगर आप सुबह सुबह सूर्य  तो इससे आपके शरीर को बहुत अधिक फायदा होता है।  दूसरी ओर, यह बहुत ही आराम और चिंतनशील होता  है।   सूर्य नमस्कार करने से  आपका शरीर निश्चित रूप से स्ट्रेच और लचीला हो जाएगा।

1. दंडासन (DANDASANA )
image source : google

सूर्य नमस्कार के इस चरण में  सबसे पहले जमीन पर दरी या चटाई बिछा कर  बैठ जाये।

अपने पैरो को आगे की ओर सीधा रखे।

दोनों पैरो को अलग अलग अपने कूल्हों के समांतर चौड़ाई पर रखे।

स्वास प्रकिर्या नार्मल रखे।

रीढ़ को बिलकुल सीधा रखे।

अपने हाथो को अपने कूल्हों के साथ साथ साइड में रखे।

अपनी पूरी हथेलियों को जमीन पर टच करवाए।

और अपनी हथेलियों पर दबाव डालें और अपनी कमर को बिकुल सीधा करे। दयँ रखे की कोहनियाँ मुड़नी नहीं चाहिए।

इस स्थिति में कम से कम 20 से 30 सेकंड रुके।

ऐसे बार बार दोहराये।

2. भुजंगासन ( BHUJANGASANA )
image source : google

पोज़ में प्रवेश करने के लिए, पेट के बल लेट जाएं, पैरों को पीछे की ओर और पैरों के पंजों को जमीन पर टिकाएं। पैरों को थोड़ा खोल ले उतना ही जितना आप खड़े होते समय खोलते है। हाथों को सीधे कंधों के नीचे रखें और हथेलियों को जमीन से दबाते हुए आगे की ओर इशारा करें, और अपनी भुजाओं और कोहनी को पूरा टाइट  कर ले । निचले शरीर का समर्थन करने के लिए पैरों और जघन की हड्डी के शीर्ष को जमीन में दबाएं और सिर, कंधों और छाती को फर्श से ऊपर उठाएं,  धीरे-धीरे  से पीछे की ओर झुकें, छाती को ऊपर की ओर उठाते हुए, कंधों को पीछे की ओर कान और गर्दन से दूर रखें। मुद्रा से बाहर आने के लिए, धीरे-धीरे अपने कंधों, छाती और पेट को नीचे की ओर नीचे लाएँ।

3. माउंटेन पोज़ ( MOUNTAIN  POSE )
image source : google

 माउंटेन पोज़ एक साधारण खड़ा मुद्रा है जिसमें पैरों को एक साथ रखा जाता है और शरीर लंबा और मजबूत होता है, जो सीधा खड़ा होता है। यह योग में अन्य सभी स्थायी मुद्राओं के लिए शुरुआती मुद्रा है और इसका अभ्यास भी किया जा सकता है। इसे सभी योग मुद्राओं में से सबसे बुनियादी मुद्रा माना जाता है।



हालांकि यह एक अपेक्षाकृत सरल मुद्रा है, यह संतुलन और स्थिरता में सुधार करने के साथ-साथ ताकत बनाने में मदद कर सकता है।

माउंटेन पोज़ के लिए संस्कृत का नाम तड़ासन है।


फिटनेस से रिलेटेड और अधिक जानकारी पाने के लिए सर्च करे -ohthefitness.com

Comments